Centrifugal Pump in Hindi | सेंट्रीफ्यूगल पंप कैसे काम करता है?

Centrifugal Pump Meaning in Hindi: आज हम बात करने वाले है Centrifugal Pump in Hindi के बारे में कि सेन्ट्रीफ्यूगल पंप कैसे काम करता है. इसको रिपेयर कैसे करे. Centrifugal Pump के ख़राब होने के करना क्या है

Centrifugal Pump को टुल्लू पंप भी कहाँ जाता है. इसका काम पानी को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुंचने का होता है

Table of Contents

डोमेस्टिक पंप सेट (टुल्लू पम्प) – Centrifugal Pump Working Principle in Hindi

यह एक छोटा सा पंप सेट है, जो घरो में प्रयोग किया जाता है. इस पंप सेट में एक कम हॉर्स पावर की capacitor स्टार्ट Single phase induction motor और सेन्ट्रीफ्यूगल पंप होता है.

यह Pump पर सॉफ्ट के द्वारा motor से जुड़ा होता है. जब यह पंप, मोटर के द्वारा घुमाया जाता है, तब यह पानी को खींचता है और पानी एक मन्जिल से ऊपर पहुँचता है

यह Centrifugal Pump, सेन्ट्रीफ्यूगल कोर्स के द्वारा आवश्य्क दबाव उतपन्न करके पानी को नीचे से ऊपर उठाता है. इसमें एक इम्पेलर (Impeller) होता है, जो मोटर के द्वारा एक बंद पैकिंग (Casing) में घूमता है, जैसाकि इस पैकिंग के एक साइड पर एक Suction pipe जुड़ा होता है.

यह pipe नीचे के Tank से पानी खींचता है. पैकिंग के दूसरे सिरे पर Delivery pipe से पंप में पानी भर लिया जाये यह pump की ”प्रीमिंग” कहलाती है.

जब Impeller घूमना प्रारंभ करता है तो यह पंप Impeller box में निर्वात की स्थिति उतपन्न करता है. इसके कारण पानी Suction pump से होता हुआ Impeller box में आता है और पानी Impeller के पंखो के बीच आता है

Impeller के लगातार घूमने के कारण Centrifugal force लगातार बनता है तथा यह force पानी को बाहर की तरफ ताकत से निकालता है. यह पानी delivery pump के द्वारा ऊंचाई वाले स्थान पर पहुंच जाता है

Suction pipe के नीचे वाले सिरे से एक Foot-Valve जोड़ा गया है. यह Foot-Valve पानी को सीधे एक दिशा में जाने देता है अथार्थ जब pump चलता है तो पानी नीचे के टैंक से ऊपर की तरफ तो आ सकता है लेकिन pump के रुक जाने पर पानी वापस टैंक में नहीं आ सकता है यह Foot-Valve पंप से वापस आने वाले पानी को रोकता है

इससे suction pipe में पानी भरा रहता है तथा pump को बंद करके पुनः चलाते समय बार-बार प्रीमिंग करने की आव्सय्कता नहीं होती है

प्रीमिंग पर्याप्त है या नहीं, इसे चेक करने के लिए केसिंग के ऊपरी भाग पर एक एयर वाल्व (Air Cock) लगाया गया होता है. प्रारंभ में air valve ओपन कर दिया जाता है और delivery pipe के द्वारा pump में पानी भरा जाता है.

यह पानी जैसे-2 suction pipe और Impeller chamber में आता है, वैसे-2 इस air valve से हवा बाहर निकलती रहती है. जब इस air valve से पानी निकलने लगता है तो इसका अर्थ है कि प्रीमिंग पर्याप्त हो चुकी है. इस स्थिति में air valve को कस दिया जाता है


सेन्ट्रीफ्यूगल पंप के विभिन्न भाग (Parts of Centrifugal Pump)

यह pump चक्राकार रूप से बना होता है. इसलिए इसकी बॉडी को भी गोलरूप में बनाया गया होता है. यह गोलाकार Casing, Impeller के द्वारा खींचे गए पानी को एकत्रित करने का कार्य भी करती है.

यह casing दो भागो में बनायीं गई होती है. इन दोनों भागो के बीच गास्केट लगाकर इन्हें बोल्ट और नट के द्वारा कस दिया जाता है

यहाँ प्रयोग किया गया Impeller क्लोज़्ड प्रकार का है अथार्थ इसके पंखे ढक्क्नो के बीच लगाए गए होते है. Impeller को शॉफ्ट के साथ जोड़ दिया जाता है तथा शॉफ्ट bearing के द्वारा सही पोजीशन में लगाया जाता है. Lubrication के लिए ग्रीस कप्स लगाए जाते है

इसी केसिंग के ऊपरी भाग पर एक एयर valve लगा होता है, जो casing की हवा निकालने के लिए प्रयोग किया जाता है

Pump को मजबूत आधार पर बोल्ट के द्वारा कसा जाता है, इसे लकड़ी के मजबूत तख्ते पर लगाया जाता है

Pump खोलने की विधि

  1. सबसे पहले motor की लीड को AC सर्किट से हटाए
  2. Delivery और Suction pipe की कपलिंग को हटाए
  3. Motor की कपलिंग को हटाये
  4. Casing के नट और बोल्ट और दोनों भागो को अलग-अलग कर ले
  5. Impeller पंखे को हटाए

Pump को असेम्बल करना

Pump की सर्विसिंग और सफाई करने के बाद उसे निम्न प्रकार से वापिस असेम्बल किया जाता है-

  1. सर्वप्रथम Impeller पंखे को धागा लगाकर कस दें
  2. Impeller के दोनों भागो को नट और बोल्ट के द्वारा कसे
  3. Motor की कपलिंग को लगायें
  4. Delivery pump को Impeller के साथ लगाए
  5. अब motor को supply देकर चेक करे

सेन्ट्रीफ्यूगल पंप (डोमेस्टिक पंप) की फॉल्ट फाइंडिंग

डिलीवरी पाइप से पानी प्राप्त नहीं होता

  • Suction pipe आवशयक लेवल तक पानी में नहीं डूबा हुआ है
  • Air लीक हो रही है
  • Pump में प्रारंभिक water level कम है
  • Pump के speed कम है. मोटर की स्पीड चेक करें। AC voltage चेक करें
  • डिलीवरी पाइप, pump की सकती से अधिक ऊंचाई पर है
  • फुट वाल्व जाम है. इसमें कचरा या अन्य गंदगी आ सकती है
  • Impeller में कचरा है
  • घूमने की दिशा गलत है मोटर की दिशा चेक करें

प्राप्त होने वाले पानी की मात्रा काफी कम है

  • Pump में कही एयर लीक हो रही है. Suction लाइन चेक करे या पंप की केसिंग की पैकिंग चेक करें
  • Impeller ख़राब हो सकता है इसे बदल दें
  • Foot valve में कचरा है

पम्प से प्राप्त पानी का प्रेशर कम है

  • पानी के साथ हवा जा रही है. सक्शन पाइप का लेवल चेक करें
  • Pump में पानी आने या जाने के राश्ते में रुकावट है
  • पंप की speed कम है
  • Bearing रिंग गरम हो रहे है. रिंग बदल दें
  • केसिंग की गास्केट ख़राब है. इसे बदल दें

स्टार्ट करते ही Pump का प्राइम लेवल भी गिर जाता है

  • सक्शन पाइप का सत्तर पर्याप्त नहीं है
  • सक्शन पाइप काफी लम्बा है. इसकी लम्बाई पर्याप्त रखे
  • Suction लाइन में एयर पास हो रही है
  • Pump की केसिंग से हवा लीक है

Pump चलने पर मोटर ओवर लोड हो जाती है

  • डिलीवरी पाइप की ऊंचाई कम रखे
  • Pump के पंखे जाम है या Packing टाइट की हुई है
  • शॉफ्ट में टेढ़ापन है
  • Bearing जाम है. इसे निकाल कर साफ़ करे. अन्यथा बदल दें

केसिंग गरम होती है

  • पैकिंग टाइट है या गलत तरीके से की गई है
  • शॉफ्ट में टेढ़ापन है

पम्प में कम्पन है

  • मिस एलाइनमेंट है. पंप को सही तरीके से एलाइन करें
  • ख़राब या ढेले बेयरिंग
  • गन्दा या ख़राब इम्पेलर
  • शॉफ्ट में टेढ़पन
  • आधार मजबूत नहीं है

Bearing जल्दी ख़राब हो जाते है

  • Pump का Impeller लहराता है
  • पम्प का एलाइनमेंट सही नहीं है
  • शॉफ्ट में टेढ़ापन है
  • रोटर का बैलेंस आउट होना
  • Bearing में ग्रीस की मात्रा अधिक होना या लुब्रिकेशन की कमी
  • बेयरिंग में धूल या पानी का आना. बैरिंग को सील करें

Pump गरम होता है तथा सीज हो जाता है

  • Pump बिना लोड लिए चल गया है
  • क्षमता से कम कार्य का प्रयोग किया गया है
  • घूमने वाला कोई पार्ट स्थिर पार्ट में टच हो रहा है
  • Bearing सूखे है या सख्त है

Centrifugal Pump Diagram

centrifugal pump digarm
centrifugal pump diagram

Domestic Pump सेट की मोटर

इस pump सेट में बहुत कम पावर की capasitor की स्टार्ट सिंगल फेज induction motor का प्रयोग किया जाता है. इस मोटर में दो वाइंडिंग होती है-

  1. मैन वाइंडिंग अथार्थ रनिंग वाइंडिंग
  2. स्टार्टिंग वाइंडिंग

Main वाइंडिंग में direct ही AC supply दी जाती है. जबकि starting winding को एक capasitor और centrifugal switch के माध्यम से सप्लाई दे जाती है. इस motor का रोटर सकुअरल केज टाइप का होता है

Capasitor start induction motor, ऐसे उपकरणों में प्रयोग की जाती है, जहाँ high starting tark की आव्सय्कता होती है. यह एक प्रकार की split phase motor है. जिसकी starting winding की सीरीज में एक capasitor लगा होता है

इसकी संरचना permanent split capasitor मोटर के सामान होती है. लेकिन इसमें मुख्य अंतर् यह है कि इसकी लगभग 75% speed पर starting winding को एक centrifugal switch के द्वारा सर्किट से हटा दिया जाता है

इस centrifugal switch की motor की शाफ़्ट पर मोटर के अंदर की और लगाया गया होता है. यह सेन्ट्रीफ्यूगल के सिद्धांत पर कार्य करता है और जब motor की speed पूर्व निर्धारित मान तक पहुंच जाती है तब या ऑफ होकर starting winding को disconnect कर देता है

चूँकि इस motor में लगा capasitor केवल स्टार्टिंग के समय ही कार्य करता है अतः इस capasitor का मान अधिक रखा जा सकता है. इससे मोटर की स्टार्टिंग क्षमता बढ़ जाती है


डोमेस्टिक पंप सेट की स्टार्टिंग वाइंडिंग

आजकल मार्किट में कई प्रकार के domestic pump मिल जाते है. या अलग-2 उपयोगो के लिए अलग-2 क्षमताओं तथा साइज के मिलते है.

इनकी आंतरिक संरचना थोड़ी भिन्न होती है लेकिन इनका सैद्धांतिक आधार लगभग एक सामान होता है. इस प्रकार विभिन्न domestic pump sets की सर्विसिंग उनकी संरचना के आधार पर की जाती है


यह भी पढ़े

FAQ’s

Q: सेंट्रीफ्यूगल पंप कितने प्रकार के होते हैं?

Ans: # Submersible Water Pump
# Trash Water Pump
# Multistage Water Pump
# Sprinkler Water Pump
# End Suction Water Pump

Q: इंपैलर कितने प्रकार के होते हैं?

Ans: इम्पेलर अलग-अलग पंप में अलग-अलग शेप में होते है. ये उनके साइज पर निर्भर करता है

Q: सेन्ट्रीफ्यूगल पंप का अविष्कार किसने किया?

Ans: Invented by Denis Papin
Invented Year – 1689 (17th century)
Country – France

Q: पानी वाली मोटर की कीमत कितनी है?

Ans: पानी की मोटर के price मोटर की कैपिसिटी के हिसाब से अलग-अलग होती है

आशा करता हूँ कि हमारी पोस्ट Centrifugal Pump in Hindi की जानकारी अच्छी लगी हो तो हमें कमेंट करे. हमारी लेटेस्ट नोटिफिकेशन पाने के लिए हमें सब्सक्राइब करें

I am a Professional Blogger From India. Here at ''Itihaaspedia'' I Write All About, Internet, Blogging, Technology, Finance, Make Money Online, Education Etc.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment