Electric Geyser Kaise Kam Karta Hai जाने हिंदी में

क्या आपको इलेक्ट्रिक गीजर के बारे में पता है अगर नहीं तो इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको पता चल जायेगा की इलेक्ट्रिक गीजर kya hai? Electric Geyser Kaise Kam Karta Hai और इलेक्ट्रिक गीजर के use और प्रकार सभी के बारे में चर्चा करेंगे

इलेक्ट्रिक गीजर के बारे में

आजकल घरों में लगातार या रुक-2 कर पानी गर्म करने के लिए इलेक्ट्रिक गीजर का प्रयोग किया जाता है एक गीजर को किसी भी स्थान पर आसानी से लगाया जा सकता है

इसके लिए पावर कनेक्शन की आवशयकता होती है क्योकि गीजर की करंट कैपिस्टी काफी अधिक होती है इसके पानी का ताप एक थर्मोस्टेट के द्वारा आटोमेटिक तरीके से आसानी से रेग्युलेट किया जा सकता है

यह विद्युत् उष्मीय सिद्धांत पर कार्य करता है गीजर में बनी पानी की टंकी में स्टोर किये गए पानी को एमर्सन रोड के द्वारा गर्म करके रखा जाता है और भविस्य में जब भी कभी आवशयकता होती है

यह गर्म पानी प्राप्त कर लिया जाता है गीजर बर्तन में गर्म पानी को गर्म बनाये रखने के लिए बर्तन और बाहरी आवरण के बीच ग्लास बूल कि पतली परत लगाई गई होती है हीट-लो को कम से कम करने के लिए बाहरी आवरण माइल्ड स्टील सीट का बनाया गया होता है पानी का आंतरिक टेंक हेवी गेज की पर्याप्त रूप से टिंड की हुई कॉपर सीट का बना होता है

गीजर प्रयोग होने वाला थर्मोस्टेट माइक्रो-गैप प्रकार का होता है इसके ऊपर लगे स्क्रू को घुमाकर ताप को 32 डिग्री C से 80 डिग्री C तक एडजेस्ट किया जा सकता है यह स्क्रू बॉटम कवर प्लेटस के नीचे लगा होता है निऑन इंडिकेटर टाइप का पायलेट लेम्प गीजर के बाहरी आवरण पर लगाया गया होता है जो गीजर की आटोमेटिक-वर्किंग को पर्दर्शित करता है

गीजर विभिन्न समताओं से उपलब्ध है ये 5 लीटर से 50 लीटर पानी की समता तथा। 0.75kw से 2kw की क्षमता में आते है


इलेक्ट्रिक गीजर के प्रकार

इलेक्ट्रिक गीजर दो प्रकार के होते है-

  1. नॉन प्रेसर टाइप (Non-Pressure Type)
  2. प्रेसर टाइप (Pressure Type)

नॉन-प्रेसर टाइप

इस प्रकार के गीजर के स्थान पर गरम पानी की आवशयकता के लिए प्रयोग किया जाता है इसमें पानी बाहर निकलने की नली पर कोई टूटी नहीं लगी होती इसमें गोलाकार हीटिंग एलिमेंट और थर्मोस्टेट और चेम्बर में पानी के अंदर ही लगे होते है

electric geyser kaise kam karta hai
electric geyser kaise kam karta hai

इसका चेम्बर गोलाकार होता है इसमें बाहर 3”की दूरी पर एक और लोहे का बर्तन होता है जिस पर लाल सीसा चढ़ा होता है इन दोनों बर्तनो के बीच के स्थान में ग्लास वूल भरा होता है

इससे गर्मी बाहर नहीं जाती इसमें एक खड़ा हीटिंग एलिमेंट लगा होता है तथा पानी का ताप कण्ट्रोल करने के लिए एक थर्मोस्टेट लगा होता है इसके पाइप क्रोम-पोलिस किये हुए होते है

इस प्रकार के गीजर बाथरूम (नहाने की जगह) में,जहा थोड़ी-2 देर में गर्म पानी की आवशक्ता होती है, प्रयोग किये जाते है

प्रेसर टाइप गीजर

इसे सिस्टर्न टाइप गीजर भी कहते है इस प्रकार के गीजर को सरलता से एक स्थान से दूसरे स्थान पर लगाया जा सकता है इस गीजर में पानी नल के द्वारा आता रहता है जब यह भर जाता है तो फ्लोट वाल्व (Float Valve) के द्वारा पानी बंद हो जाता है

इसमें से गरम पानी ताँबे की नालियों द्वारा लिया जाता है इस प्रकार के हीटर डेढ़, तीन या पांच गैलन क्षमता के होते है तथा इन्हे सामान्यतया रसोईघर या अस्पतालों में प्रयोग किया जाता है, वहाँ 12 गैलन का प्रेसर टाइप या सिस्टर्न टाइप गीजर प्रयोग किया जाता है

विधुतीय कनेक्शन

electric geyser kaise kam karta hai

गीज़र्स पोटेर्बल उपकरण नहीं है अतः इसमें प्लग और सॉकेट कनेक्शन प्रयोग नहीं किये जाते घरो में एक अलग पावर सप्लाई के द्वारा गीजर को सप्लाई दी जाती है और गीजर के तार इस आयरन क्लेड स्विच में जुड़े है

इस प्रकार इस आयरन कलेड़ स्विच के द्वारा गीजर सप्लाई दी जाती है बिजली के झटको से बचने के लिए गीजर की बॉडी को अर्थ करना बहुत जरुरी होता है

गीजर के टेस्टिंग और रिपेरिंग विधि

मेन स्विच में मेन टर्मिनल के साथ एक सिंगल लेम्प को जोड़कर सप्लाई को चेक किया सकता है वायरिंग में ओपन या शार्ट सर्किट की खराबियाँ होती है

टर्मिनल्स से वायर के खुल जाने या वायर्स के अंदर से टूट जाने के कारण सर्किट ओपन हो जाता है तथा वायर्स के आपस में जुड़ जाने या टर्मिनल्स से नंगे तार के टूट कर किसी दूसरे स्थान पर जुड़ जाने से शार्ट सर्किट हो जाता है

इन दोनों ही स्थितियों की जाँच सीरीज़ टेस्टिंग लेम्प से की जा सकती है इसके लिए सर्वप्रथम गीजर के मैन स्विच कनेक्शन से हटाते है

electric geyser kaise kam karta hai

और टेस्ट लेम्प का एक सिरा वायर के एक सिरे पर और दूसरा सिरा इसी वायर के दूसरे सिरे पर रकते है यदि बल्ब नहीं जलता है तो इसका अर्थ है की वायर टुटा हुआ है यदि बल्ब जल जाता है तो टेस्टिंग लेम्प के एक तार को दूसरे तार के साथ लगाते है

यहाँ बल्ब नहीं जलना चाहिए लेकिन यदि बल्ब जल जाता है तो इसका अर्थ है की कनेक्शन के दोनों तार या गीजर के अंदर का सर्किट शोर्ट है इससे फ्यूज ुध जायेगा ऐसी स्थिति में फाल्ट को सावधानी से चेक करे और ख़राब वायर या पुर्जे को बदल दे

गीजर का एलिमेंट ख़राब या जला हुआ हो सकता है इसे मैन कनेक्शन से हटाकर सीरीज़ टेस्टिंग लेम्प के द्वारा चेक किया जा सकता है यदि एलिमेंट जल गया होगा तो बल्ब नहीं जलेगा

एलिमेंट में अर्थ की प्रॉब्लम को कैसे चेक करे

एलिमेंट का अर्थ लीकेज के लिए भी चेक करना चाहिए इसके लिए सीरीज़ टेस्टिंग लेम्प का एक दिरा एलिमेंट के किसी भी एक सिरे पर रखे और दूसरे सिरे को एलिमेंट के मेटल-पार्ट पर रखे एलिमेंट में अर्थ फाल्ट होगा तो बल्ब जल जायेगा लेकिन यदि यहाँ स्पार्किंग होती है

इसका अर्थ है की यहाँ लेकिज फाल्ट है इन स्थिति में एलिमेंट को बदल देना चाहिए इसको बदलने के लिए पुरे गीजर को खोलने की आवश्य्कता नहीं होती इसके लिए केवल बॉटम पर लगे नटो को खोलना ही पर्याप्त होता है एलिमेंट बाहर आ जाता है

थर्मोस्टेट चेक करने की विधि

थर्मोस्टेट भी ख़राब हो सकता है इसमें लीकेज हो सकती है या इसकी सेटिंग सही नहीं है इसकी जाँच भी सीरीज़ टेस्टिंग लेम्प के द्वारा की जा सकती है यदि आवसायक हो तो इसे बदल देना चाहिए यघपि गीजर को सही तरीके से लगा देने के बाद इसकी देखभाल करने की आव्सकता नहीं होती

लेकिन यदि गीजर की टंकी को एक निश्चित समयावधि के बाद साफ कर लिया जाये तो इससे इसकी लाइफ बढ़ जाती है काफी समय तक प्रयोग करने से टंकी में मिनरल जमा हो जाता है यह मिनरल टंकी की आंतरिक सतह को ख़राब कर देते है अतः इसे समय-2 पर साफ कराते रहना चाहिए

सावधानियाँ

  1. कोल्ड वाटर कण्ट्रोल बल्ब को खोल कर तब तक इंतजार करे जब तक टूटी में ठंडा पानी नहीं आ जाता अब सप्लाई स्विच को ऑन कर दे |
  2. गर्म पानी के ताप की अवसक्ता के अनुसार टूटी से पानी के फ्लो को एडजेस्ट करे फ्लो बढ़ाने पर पानी का ताप कम प्राप्त होगा और फ्लो कम करने पर पानी का ताप बढ़ जायेगा |
  3. गीजर की सर्विसिंग और टेस्टिंग करते समय सूखी लकड़ी या रबड़ मेट पर खड़े हो |
  4. सप्लाई फ़ैल होने की समभावना को रोकने के लिए गीजर के हीटर को इलेक्ट्रिक सप्लाई के सीरीज़ में चेक करे गीजर को तब तक डायरेक्ट सप्लाई ना दे, जब तक यह निश्चित ना हो जाये की गीजर में कोई खराबी नहीं है |
  5. जब गीजर की सप्लाई ऑन हो उस समय इस पर सर्विसिंग से सम्बंदित कोई कार्य ना करे |

यह भी पढ़े 

यूजर द्वारा पूछे जाने वाले (FAQ’s) प्रश्न

Qs: पानी पर्याप्त स्तर पर गर्म नहीं होता है

Ans: थर्मोस्टेट को काफी लो पर सेट किया हुआ है थर्मोस्टेट पर लगे स्क्रू को घुमाकर सेटिंग को एडजेस्ट करे

Qs: गर्म पानी तेज गर्म होता है ऑफ़ भाप निकलती है

Ans: बॉटम कवर प्लेट को हटाकर थर्मोस्टेट को चेक करे यदि इसमें टर्मिनल जल गए है तो इसे बदल दे स्क्रू की सेटिंग भी चेक करे

Qs: फ्यूज बार-2 ओपन हो जाता है

Ans: फ्यूज की कैपेसिटी कम है या गीजर अधिक लोड ले रहा है इन्हे चेक करे तथा सही मान का फ्यूज लगाए
गीजर की हीटिंग एलिमेंट में शॉर्टसर्किट या अर्थ फाल्ट है इसे सीरीज़ टेस्टिंग लेम्प से चेक करे ख़राब होने हीटिंग एलिमेंट को बदल दे
वायरिंग में शॉर्टिंग है सर्किट को धयान पूर्वक देखे

Qs: गीजर से बिजली का झटका (Shock) लगता है

Ans: हीटिंग एलिमेंट में लीकेज है इसे चेक करे इसमें ख़राबी है तो इसे बदल दे
हीटिंग एलिमेंट में पंचर है पानी इसके अंदर जा रहा है हीटिंग एलिमेंट को बदल दे
न्यूट्रल ओपन है न्यूट्रल वायरिंग की कंटीन्यूटी चेक करे तथा इस सही तरीके से लगाए

Qs: गीजर से पानी अधिक लीक करता है

Ans: पाइप लाइन में जवाइंट ढीले है इन्हे कसे और आव्सकता होने पर बदल दे
पानी की टंकी में लेकिग है इसे बदल दे

आज आपने क्या सीखा

दोस्तों, आपको हमारी Electric Geyser Kaise Kam Karta Hai जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट में जरूर बताये. अगर इलेक्ट्रिकल से जुड़ी और जानकारी और चाहिए तो हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे और हमारी इस पोस्ट को जयादा से ज्यादा शेयर करे ताकि और भाइयो को इसकी जानकारी मिल सके

I am a Professional Blogger From India. Here at ''Itihaaspedia'' I Write All About, Internet, Blogging, Technology, Finance, Make Money Online, Education Etc.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment