Electric Kettle Kya Hai? कैसे काम करता है?

आज हम जानेगे Electric kettle Kya Hai और इलेक्ट्रिक kettle कैसे काम करता है इस पोस्ट में हमने आपको केतली के फायदे और नुकसान के बारे में आसानी से समझाने की कोशिस की है अगर आप Electric kettle के बारे में पूरी जानकारी के लिए इस पोस्ट को last तक पढ़े |

Electric kettle kya hai
Electric kettle kya hai

Electric kettle Kya Hai

घरों में चाय बनाने या दूध गर्म करने के लिए बिजली से चलने वाली kettle का प्रयोग किया जाता है | यह एक रास्ता और उपयोगी उपकरण है | इसकी आंतरिक बनावट लगभग विधुत प्रेस के सामान होती है |

विधुत Kettle में दो प्रकार के Element प्रयोग किये जाते है

  1. Tube टाइप element
  2. अब्रक टाइप element

ट्यूब टाइप एलिमेंट (Tube type element)

इसमें तांबे की पतली नली में नाइक्रोम तार का element डालकर चारों और से मैगनीशियम ऑक्साइड का इंसुलेशन भर दिया जाता है | Tube type element को निकालने के लिए उसके turminal housing को खोलना पड़ता है |

इस प्रकार की kettle का turminal housing (connector) भी विसेष प्रकार का होता है, जो साधारण प्रेस के connector से महगा आता है | इस element की पावर 600W से 1500W तक होती है |

अब्रक टाइप एलिमेंट (Abhrak type element)

अब्रक टाइप element में अब्रक के टुकड़े पर नाइक्रोम तार लपेटा अब इस टुकड़े का दो बड़े आकार के अब्रक के टुकड़े के बीच रखकर तथा turminal को बाहर निकालकर रिबिट लगा दिए जाते है |

इस element को कभी भी खुले में supply नहीं देनी चाहिए अन्यथा ये एकदम जल जाता है | इसको किसी लोहे की पलेट से kettle में कस देने के बाद ही सप्लाई देनी चाहिए | इसे test करने के लिए series testing lamp प्रयोग किया जा सकता है

विधुत केतली की फाल्ट फाइंडिंग

केतली गर्म नहीं होती है |

  • फ्यूज open है |
  • Element ओपन है |
  • Connector या प्लग-शू open है |
  • इन सब कारणों की जाँच series testing lamp से की जा सकती है |

केतली से विधुत का झटका (शॉक) लगता है तथा केतली गर्म नहीं होती है |

  • Connector से तार टुटा हुआ है तथा यह केतली की metallic body से टच हो रहा है |
  • Element जल गया है तथा इसकी तार बॉडी से touch हो रही है |
  • अब्रक type element की टर्मिनल स्ट्रिप बॉडी से touch हो रही है |

इन सभी कारणों से केतली से शोक लग सकता है | लेकिन यदि केतली की बॉडी को earth किया गया है तो kettle से शोक लगने की सम्भवना कम हो जाती है | इस समय केतली को सीरीज टेस्टिंग लैंप से check करके ठीक किया जा सकता है |

केतली का Element बार-2 जल जाता है |

इसका मुख्य कारण लोहे की भरी पलेट (Pressure plate) का ठीक तरह से कसा न होना है | इस प्लेट के ढीला रह जाने से element फूल जाती है तथा जल जाता है | यदि pressure प्लेट पर जले हुए element के भाग लगे हुए है

तो उन्हें खुरच कर साफ़ करे या रेगमाल से रगड़ कर साफ़ करे | इसके अलावा एलिमेंट के बार-2 जल जाने के कारण अधिक voltage के कारण अधिक वोल्टेज का आना या बिना पानी डाले केतली को ऑन कर देना भी है |

सावधानियाँ

  1. केतली में बिना पानी डाले, उसे कभी भी supply नहीं देनी चाहियें |
  2. केतली की ऑन पोजीशन में उसे हाथ न लगायें तथा यह निश्चित कर ले कि kettle में अर्थ वायर लगा हुआ है या नहीं |
  3. केतली को service के लिए खोलने से पहले supply लीड को वाल-सर्किट से निकाल लें |
  4. टूटे हुए plug या connector कभी भी यूज़ में न ले तथा wiring में किसी भी प्रकार का लूज़ connection न रखे |
  5. चाय या दूध गर्म करने के बाद केतली को साफ़ करके उल्टा रखना चाहिये ताकि उसका पानी निकल जाये |
  6. धोते समय ये ध्यान रखे की केतलीके निचले भाग पर पानी न आये या कम आये | यदि पानी element तक पहुँच जायेगा तो वह जल जायेगा |

यह भी पढ़े

 

अगर आपको Electric kettle Kya Hai की जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे like और शेयर करे और social media पर भी हमें शेयर करे

Rate this post

Leave a Comment

%d bloggers like this: